Posts Tagged ‘metoo’

Varun Grover has been an integral part and regular contributor at MoiFightClub ever since this blog began. It was inevitable that all of us were shaken when allegations of sexual misconduct against him surfaced on Twitter through two handles who posted anonymous screenshots of stories of how he had harassed someone while she was allegedly a junior of his at BHU.

Ever since the allegations surfaced, there was frenzied activity from both sides – those who had decided that Varun was indeed guilty, and those who couldn’t believe he was. There is a third view as well, the nuanced one, that Varun should not be presumed innocent just because his friends believe him to be and every complaint should be taken seriously, even if anonymous, but he should be also heard and allowed a chance to put up arguments pointing to his innocence. After all isn’t that the basis of our judicial system?

A week has passed and we’re still on a stalemate on this case – Varun’s open questions to the two accounts who posted these screenshots remain unanswered and have been met with silence and resistance, and there seems to be no way to decide what to believe either way.

Varun posted this open letter a few hours ago on Medium to maybe share his state of mind, his point of view, and the state of affairs as they stand. We are reproducing the letter – in English and Hindi – here for all of you.

Revolutions are beautiful. They are cathartic, powerful, necessary, and like #metoo — inevitable.

And revolutions, inevitably, have some collateral damage too.

Last week has been a whirlwind of sorts in my life. Amidst the distress and confusion, I have discovered the kind solidarity of many strangers. I was at the receiving end of an anonymous allegation that I know and can prove to be false. In the macro perspective, the wave is bigger and way more important than my isolated small case. Centuries of patriarchy and oppression have created a system that cannot be taken down through polite means.

However, at the same time, my isolated small case does mean the world to me, my family and friends. It affects not just my mental health and professional life but my ability to take a social stand on every injustice I want to speak about.

And therefore, I feel this earnest need to present my side even though no formal complaint has been filed against me. This closure is needed to maintain my own sanity.

The allegations:

On 9th October 2018 at around noon, two screenshots sent by an anonymous account on twitter alleged that I had sexually harassed the person, a junior to me in college (IT-BHU, Varanasi) in 2001. Within minutes the screenshots went viral and within an hour, news channels framed me as a sexual assaulter bundled with other prominent names. It was hurtful and disappointing that the media did not even make the simple distinction while reporting this allegation and other cases. The charges were made by a single anonymous account in my case and multiple well-known women they could reach directly for comments in many of the other cases.

My stance:

I categorically deny the allegations in their entirety as completely baseless fabrications. I have never been involved in any such incident with anybody in my entire life.

The evidence of my innocence:

As stated in my initial statement, I will be readily available to face any independent inquiry to present the facts and help bring the truth out.

Until that happens, I can only present some new findings from my side that refute the allegations made.

A female junior in college in 2001:

a) I joined IT-BHU in July 1999 for a 4-year under-grad course in Civil Engineering. New batches arrive in July every year. So a junior to me in 2001 would mean two batches — 2000–2004 and 2001–2005.

As per official records, in the batch of 2000–2004, a total of 25 females joined the under-grad course and in the batch of 2001–2005, the total female strength was 11. That makes it a total of 36 female students that were my junior at that time.

Out of these 36, my theatre group worked with only four during the course of our stay at the institute and they have remained friends. As the news broke out, these four reached out to me and expressed their solidarity.

Extending their support further, these 4 women reached out to the rest 32 of the female students (spread across the globe) that were my junior at that time and have received confirmation from each one of them that such an incident did not happen. These confirmations can be verified by any independent inquiry.

This proves clearly that the person making the allegations on twitter did not even attend the same college as mine at the time of the incident stated in the allegation.

b) The same check can be done by any independent authority asking the person making the allegations to furnish any valid id card (Engineering completion degree from IT-BHU, semester mark-sheets, original college ID card) to see if they even went to IT-BHU in the batches of 2000–2004 or 2001–2005.

The deadlock:

I completely understand and support the need for anonymity in #metoo stories as our highly biased societal systems and male toxic behavior leave most women no space or platform to speak of their traumas openly or even in private.

No account should be stopped from being published because of its anonymity — but once fact-based counter-claims are made by the accused, the movement as a collective can perhaps make space for the intent to verify them. Further, if the allegations are found untrue, the movement can announce them to be considered removed or at the very least the account can be labeled as ‘pending verification’, till the contested claims are checked.

Over the last 5 days on social media — my requests for carrying out these basic checks have been met with silence, leaving me in a constant state of mental trauma and anguish.

Well-wishers have repeatedly suggested going the legal route to force a solution but I respect the movement, its volunteers, and all the brave women speaking out (openly or anonymously) immensely and won’t intend to affect it negatively. We all will be better allies if the closure is reached mutually.

I understand the excruciating lengths every volunteer and supporter of the movement is traversing to make this cathartic moment in our history happen. I also understand that men have, throughout history, paid very little price even when found guilty while women have constantly suffered even by the faintest of rumors made on their character. A few factually inconsistent cases like mine won’t matter in the larger success of the movement. I am just a number, an abstract concept for the world outside.

But I am not an abstract concept for myself — my family and friends, suffering with me, deserve clarification. We deserve the same fairness this movement stands for.

The resolution:

I’ve said all that I can on this situation and shared the facts that clearly refute the allegations made.

If someone still has any concerns, I urge them to reach out to National Commission for Women (NCW) or any independent commission and file a formal complaint. I will be grateful to present my case.

And one last thing:
Am I angry? Yes. Is my mental health in shambles? Yes. Do I occasionally feel like a victim of an agenda? Yes. And would I still say “Believe All Women”? Yes. But please bring in the checks to differentiate it from “Believe All Screenshots”.

Revolutions can be messy but they can’t be perceived as unjust.

Varun Grover (Mumbai, 15th October 2018)
(Same statement in Hindi follows)

(यही वक्तव्य हिंदी में)

सत्य के लिए आग्रह के साथ खुला ख़त

इंकलाब बहुत खूबसूरत होते हैं. मन का मैल धो देने वाले, शक्तिशाली, निहायत ज़रूरी और #मीटू अभियान की तरह अवश्यंभावी भी.

पर अवश्यंभावी रूप से इंकलाब अपने साथ कुछ अनचाही कुर्बानियाँ भी लाते हैं − कॉलेटरल डैमेज.

बीता हफ़्ता मेरी ज़िन्दगी में एक चक्रवात की तरह गुज़रा. उलझन और उदासी में डूबा. पर मैंने यह भी जाना कि कितने ही अजनबी एकजुटता में मेरे साथ आ खड़े हुए हैं. मेरे ऊपर एक ऐसा गुमनाम आरोप लगाया गया, जिसके बारे में मुझे पता है कि वो गलत है और बाकायदे मैं ये साबित कर सकता हूँ. अब अगर तस्वीर का फ्रेम बड़ा कर देखें तो #मीटू की इस क्रांतिधारा की ज़रूरत और महत्व मेरे अकेले के शहीद हो जाने से कहीं बड़ा है. आखिर सदियों की पितृसत्ता और शोषणचक्र को शिष्ट तरीकों से नहीं गिराया जा सकता.

लेकिन मेरी पूरी दुनिया इस आरोप से दहल गयी है. मैं, मेरे दोस्त, मेरा परिवार सकते में हैं. मेरी दिमाग़ी सेहत और पेशेवर कामकाज पर इसका सीधा असर है. इससे भी बुरा ये कि इसने मेरी नाइंसाफ़ी के खिलाफ़ खड़े होने की और सामाजिक न्याय की हर आवाज़ में अपना स्वर मिलाने की कुव्वत को मुझसे छीन लिया है.

इसलिए, भले मेरे ख़िलाफ़ कोई औपचारिक शिकायत दर्ज ना की गयी हो, फिर भी मेरी ईमानदार कोशिश है कि मैं अपना पक्ष रखूं. यह कोशिश खुद मेरे मन की शांति के लिए ज़रूरी है.

आरोप

9 अक्टूबर 2018 की दोपहर को ट्विटर पर किसी अनाम खाते से दो स्क्रीनशॉट्स डाले गए. इनमें आरोप था कि मैंने साल 2001 में इस इंसान, जो उस वक्त कॉलेज (आईटी-बीएचयू, वाराणसी) में मेरी जूनियर थीं, का यौन शोषण किया है. सोशल मीडिया पर कुछ ही पलों में ये स्क्रीनशॉट वायरल की तरह फैले और अगले ही घंटे मेरा नाम तमाम न्यूज़ चैनल्स पर था, अन्य तमाम बड़े नामों के साथ ‘यौन उत्पीड़क’ वाले खाते में. मीडिया ने इसे रिपोर्ट करते हुए सामान्य सावधानी भी नहीं बरती. जिस तरह मेरे केस को अन्य गंभीर मामलों के साथ एक ही खांचे में डाल दिया गया, यह बहुत तकलीफ़ पहुँचाने वाला और निराशाजनक था. मेरे केस में यह आरोप एक अकेले अनाम खाते द्वारा लगाए गए थे, जबकि अन्य कई मामलों में आरोप लगानेवाली अनेक जानी-मानी महिलाएं थी. ऐसी महिलाएं जिनसे ज़रूरत पड़ने पर मीडिया सीधा संपर्क कर सकता था आैर उनकी टिप्पणी ले सकता था.

मेरा पक्ष

मैं इस आरोप को सिरे से गलत, बनावटी और पूरी तरह आधारहीन बता रहा हूँ. पूरी ज़िन्दगी में मेरे साथ ऐसी कोई घटना नहीं हुई है. किसी के साथ नहीं, कभी नहीं.

मेरी बेगुनाही के सबूत

जैसा मैंने अपने शुरुआती बयान में भी कहा था, मैं किसी भी स्वतंत्र जाँच के समक्ष प्रस्तुत होने और अपने हिस्से के तथ्य रखने को तैयार हूँ, जिससे सच्चाई सबके सामने आ सके.

पर जब तक वो नहीं होता, मैं सिर्फ़ कुछ नए तथ्य आपके सामने रख सकता हूँ. उम्मीद करता हूँ कि इनसे मुझ पर लगाए गए आरोपों का खंडन हो सके.

कॉलेज में मेरी जूनियर, साल 2001

1) मैंने आईटी-बीएचयू में जुलाई 1999 में सिविल इंजीनियरिंग के चार साला स्नातक कोर्स में दाख़िला लिया था. नया बैच वहाँ हर साल जुलाई में ही आता है. इस हिसाब से 2001 में मेरी यह अनाम जूनियर या तो 2000–2004 बैच से हो सकती है, या 2001–2005 बैच से.

अधिकृत दस्तावेज़ों के आधार पर, 2000–2004 के स्नातक बैच में कुल 25 लड़कियों ने दाख़िला लिया था, जबकि 2001–2005 के बैच के लिए यही संख्या 11 थी. इस तरह यही 36 लड़कियाँ ठहरती हैं जो कथित घटना के समय मेरी जूनियर थीं.

इन 36 लड़कियों में से सिर्फ़ 4 थीं, जिनके साथ संस्थान में रहने के दौरान हमारे थियेटर समूह ने काम किया. हमारी ये दोस्ती बाद में भी कायम रही. जब मेरे बारे में आरोप की यह खबर इन चारों तक पहुँची, तो चारों ने मुझसे सम्पर्क किया और मेरे साथ अपनी एकजुटता जाहिर की.

इसी एकजुटता के चलते इन चारों ने दुनियाभर में फैली अपनी बाक़ी 32 स्त्री सहपाठियों से सम्पर्क किया. घटना के समय मेरी जूनियर रही एक-एक लड़की से बात कर इस बात की पुष्टि हासिल की, कि ऐसी कोई घटना कभी हुई ही नहीं. किसी भी स्वतंत्र जाँच में इस बात को वापस सत्यापित किया जा सकता है.

स्पष्ट है कि ट्विटर पर इन आरोपों को लगानेवाला व्यक्ति आरोप में उल्लेखित घटना के समय मेरे संस्थान का छात्र ही नहीं था.

2) यही बात जाँचने का एक सीधा तरीका भी है. किसी भी स्वायत्त अधिकारी द्वारा इस व्यक्ति से ऐसा कोई भी पहचान पत्र (आईटी-बीएचयू से इंजिनियरिंग की डिग्री, किसी भी सेमेस्टर की अंक तालिका या कॉलेज का मूल पहचान पत्र) दिखाने को कहा जाये जो साबित कर सके कि इन्होंने 2000–2004 या 2001–2005 में से किसी बैच में आईटी-बीएचयू में पढ़ाई की है.

बात कहाँ अटकी है

मैं इस बात को समझता हूँ कि इन #मीटू की कहानियों के सामने आने के लिए गुमनाम रहकर अपनी आपबीती को अभिव्यक्त करने का रास्ता ज़रूरी है. मैं आज भी इसके साथ खड़ा हूँ. हमारा पितृसत्तात्मक, पुरुषों के ज़हरीले व्यवहार में गले तक डूबा सामाजिक ढांचा स्त्रियों के लिए कोई और मंच या जगह छोड़ता भी कहाँ है अपने दर्द को बयाँ करने के लिए. ना घर उनका, ना समाज.

किसी भी आपबीती को इसलिए रौशनी में आने से नहीं रोका जा सकता कि उसे बयाँ करनेवाली अभी अपना नाम अंधेरे में रखना चाहती है. लेकिन जब आरोपित व्यक्ति तथ्यों के आधार पर उसकी बात को गलत साबित करे, तो खुद आन्दोलन को आगे बढ़कर तथ्यों की पुष्टि का कोई तरीका निकालना चाहिए. इससे आगे, अगर आरोप गलत पाये जायें तो कम से कम इसकी तो घोषणा की जाये कि इस इंसान का नाम ‘दाग़ियों’ की सूची से हटाया जाता है. या किसी एक की बात साबित होने तक उसके आरोप के साथ ‘पुष्टि नहीं’ ही जोड़ दिया जाये.

बीते 5 दिन से मैं सोशल मीडिया पर यही विनती कर रहा हूँ कि कम से कम आरोप में शामिल इन प्राथमिक तथ्यों की सत्यता तो जाँच ली जाये − लेकिन मेरी बात को अनसुना किया जाता रहा. इस चुप्पी के चलते मैं कैसी मानसिक यंत्रणा से गुज़रा, मैं ही जानता हूँ.

मेरे शुभचिंतक लगातार सलाह देते रहे कि मुझे समाधान के लिए कानूनी रास्ता अपनाना चाहिए, लेकिन मैं इस अभियान का और इसके सिपाहियों का सम्मान करता हूँ. मैं उन तमाम महिलाओं का तहेदिल से सम्मान करता हूँ जो आवाज़ उठा रही हैं (भले सामने आकर या अंधेरे में रहकर) और नहीं चाहता कि मेरी वजह से अभियान पर ज़रा सी भी आँच आए. हमारा एका और बढ़ेगा अगर हम साथ मिलकर किसी समाधान तक पहुँचेंगे.

मैं जानता हूँ कि इस अभियान का प्रत्येक सिपाही और समर्थक हमारे इतिहास में आयी इस आत्मसाक्षात्कार की घड़ी को संभव बनाने के लिए कैसे जी-जान से जुटा है. मैं यह भी जानता हूँ कि पुरुषों ने अपराधी साबित होने पर भी कभी कुछ नहीं खोया, जबकि इतिहास गवाह है कि स्त्री के चरित्र पर अफ़वाह भी हमेशा के लिए दाग़ लगा जाती है.

नहीं, मेरे जैसे कुछ तथ्य से परे मामले इस अभियान की वृहत्तर सफ़लता को रोकनेवाले नहीं हो सकते. मैं एक संख्या भर हूँ. दुनिया के लिए अमूर्त विचार भर. लेकिन मैं खुद के लिए तो अमूर्त संकल्पना भर नहीं. मैं, मेरे परिवार वाले और दोस्त मेरे साथ यह नर्क भुगत रहे हैं. क्या उनका एक स्पष्टीकरण जितना भी हक़ नहीं बनता. न्याय के इस अभियान का न्याय हमें छल नहीं सकता.

समाधान

इस परिस्थिति में मैं जो कुछ कह सकता हूँ, जो भी तथ्य अपनी ओर से सामने रख सकता हूँ, रख रहा हूँ. ऐसे तथ्य जो साफ़तौर पर आरोपों को गलत साबित करते हैं.

मेरा निवेदन है कि अगर अब भी किसी के मन में शक है, तो वह ‘राष्ट्रीय महिला आयोग’ (NCW) या किसी भी अन्य स्वतंत्र जाँचकर्ता समिति में औपचारिक शिकायत करे. मैं खुशी-खुशी अपना पक्ष रखूँगा.

और आखिर में

क्या मैं गुस्सा हूँ? क्या मेरी दिमाग़ी शांति चली गयी है? क्या मुझे रह-रहकर ये लगता है कि मुझे किसी योजना के तहत फंसाया गया? इन सभी सवालों का जवाब ‘हाँ’ है. पर आज भी मुझसे पूछा जाये कि क्या मैं “हर स्त्री पर भरोसा करो” का नारा लगाउंगा? तो मेरा जवाब आज भी ‘हाँ’ होगा. लेकिन यह नारा “हर स्क्रीनशॉट पर भरोसा करो” में ना बदल जाये, इसके लिए हमें जवाबदेही तय करनी ही होगी.

~ वरुण ग्रोवर

We have all been witness to the recent outpourings from various women in entertainment, media and film industry and other walks of life about their experiences with men crossing the line, taking liberties with their personal space and sexual harassment. This is being called India’s #MeToo movement, some people have also coined the hashtag #MeTooIndia for it. What started with Tanushree Dutta’s allegation of Nana Patekar, and then accounts of incidents about stand-up comic Utsav Chakraborty, soon snowballed and was used as a platform to expose behaviour of many people in comedy, media, films – almost the entire AIB gang, Chetan Bhagat, Vikas Behl (and in this connection Anurag Kashyap), and Rajat Kapoor amongst others, for their behaviour with women assistants, journalists and colleagues. And even how people who were made aware of these incidents in the past chose to not do anything about them.

MAMI being a well-known festival and academy has shown support for the movement through their social handles.

The content of the note is:

We as an Academy (MAMI) strongly support the #MeToo movement. In light of recent developments, we have decided to drop the following films from our line up – AIB’s Chintu Ka Birthday and Rajat Kapoor’s Kadakh. We want to use this opportunity to open up the conversation and find solutions to harassment and sexual misconduct in the workplace. Starting with this edition of the festival, we would like to unite the community to find positive and constructive ways to deal with it.

This is definitely big news for women safety and consent, at least for the entertainment industry!