Archive for May, 2014

In the last few years, Marathi cinema has really gone ahead of Bollywood and most other language films in India. The filmmakers are fearlessly experimenting with form and content, and are delivering some fine films. But most of them don’t travel beyond the state because of either distribution problem or lack of English subtitles. We try to put out recco post of such films whenever we can.

Here’s the VOTD – Nikhil Mahajan has put out his debut Marathi feature ‘Pune 52’ on youtube. And with proper English subtitles. Do watch.

About the film – Pune 52 is a neo-noir drama set in the city of Pune in the year 1992. Its a story of a private detective with a failing marriage. How his life takes a dramatic turn after he takes a case that is deeply personal and highly complex forms the plot of this intense Marathi language feature debut of Nikhil Mahajan. Starring National Award winning actor Girish Kulkarni, Sonali Kulkarni and Sai Tamhankar, and produced by IME Motion Pictures and Arbhaat Nirmitee.

Kanu Bahli’s Titli premiered at Cannes Film Festival in Un Certain Regard section. Here’s all the buzz from the Cannes.

(click on any pic to start the slide show)

An enjoyable, character-driven Indian yarn about an emotional family of criminals gets better as it goes on…. Behl shows talent directing a largely non-pro cast, situating them carefully in the squalor of their Delhi surroundings. The family’s cramped apartment is the theater of many domestic dramas but also symbolizes the close ties that bind everyone together, like the humorous intimacy of their noisy tooth-brushing.

All the technical work is top quality. Namrata Rao’s editing keeps the rhythm flowing, while sound effects and music (uncredited) are used to great effect to pump up the mood.

– From The Hollywood Reporter. Full review is here.

To Behl’s credit, as wretched, repulsive and disgusting as his characters often are, it’s impossible to ignore them, because there is a spark of human grace even in the least appealing ones. His cast, mostly consisting of inexperienced actors, instill lots of fiery passion  in their respective roles, with a couple of remarkably intense scenes between Arora and Raghuvanshi standing out among others.

– From Screen Daily review, it’s here.

– Screen Daily interview is here.

– Film critic Anupama Chopra tweeted about it

– A Variety feature on “Titli’s challenges” is here.

– To know more about the film (synopsis, cast, crew, poster, trailer), click here.

(pics from various sources)

NFDC Labs has announced mentors for their Romance Screenwriters Lab.

Habib Faisal (writer/ director) and Bhavani Iyer (writer) are going to mentor the participants of the recently announced Romance Screenwriters’ Lab, and Ashok Banker and Shoma Narayanan will mentor the parallely scheduled Harlequin lab for screen to novel adaptations.

SCREENWRITERS LAB

NFDC, in association with Harlequin, is organising the first-ever Romance Screenwriters’ Lab, which will focus on developing scripts based on romance and women-centric plots.

– The Lab will be held in three stages and the participants will be mentored by three eminent people from the Indian film industry.

– The last stage of the Lab will culminate at Film Bazaar, Goa, where the participants will be given the opportunity to pitch the projects to prospective producers.

– Harlequin will also offer book deals to some of the selected projects, and organize independent workshops with mentors from the publishing industry.

– The Lab is open only to adult Indian passport holders

SELECTION

– The selection process is in two parts. This is the first part of the selection procedure where participants will be shortlisted based on the selected synopsis

– Participants shortlisted for the second stage will be given a scheduled duration to submit completed scripts. Submissions should be made via email only as a single pdf/doc file. Do not send material as separate attachments. No hard copy of submissions are to be sent.

DEADLINE

– All Applications must be received on or before 31st May 2014 by 6 pm.

FEES

– Application fee for the lab is INR 5,000/- only. It is payable by Demand draft made in favour of National Film Development Corporation Ltd., payable at Mumbai, or by Wire Transfer.

– To know more about the rules, regulations, FAQs and application form, click here.

Titli

Kanu Behl’s Titli is all set to premiere at this year’s Cannes Film Festival. And the makers have just released the poster and the first trailer of the film. It looks so intense, and so unlike any other YRF film ever. Have a look.

And here’s the Offficial Synopsis

In the badlands of Delhi’s dystopic underbelly, Titli, the youngest member of a violent car-jacking brotherhood plots a desperate bid to escape the ‘family’ business.

His struggle to do so is countered at each stage by his indignant brothers, who finally try marrying him off to ‘settle’ him.

Titli, finds an unlikely ally in his new wife, caught though she is in her own web of warped reality and dysfunctional dreams. They form a strange, beneficial partnership, only to confront their inability to escape the bindings of their family roots. But is escape, the same as freedom?

Cast and Crew

Directed by: Kanu Behl
Produced by: Dibakar Banerjee and Yashraj Films
Music by: Karan Gour
Written by: Sharat Katariya & Kanu Behl

– Starring Ranveer Shorey, Amit Sial and introducing Shashank Arora

– Earlier Varun Grover wrote about Titli in this post.

 

VBSundance Institute has announced the 13 projects which have been selected for Screenwriters and Directors Lab. Set at the Sundance Resort in Utah, the Directors Lab will run from May 26 to June 19 and the Screenwriters’ Lab will run from June 21-26. Vasan Bala’s new script Side Hero has been selected for the Screenwriters Lab.

Here’s more on the film (from the official statement) –

Vasan Bala (writer/director) / Side Hero (India): A teenager who lives by the codes of his beloved kung fu movies must find his own way when he discovers that he may never get to be the hero.

Vasan Bala was born and raised in Mumbai. Both his father and grandfather were film buffs whose love of film inspired his own. Bala has collaborated in various capacities with filmmakers including Anurag Kashyap, Michael Winterbottom, and Danis Tanvoic. His debut feature as a writer/director, Peddlers, screened in Critics Week at the 2012 Cannes Film Festival.

The Directors Lab fellows are: Gabriela Amaral Almeida, The Father’s Shadow (Brazil); Jordana Spiro and Angelica Nwandu, Night Comes On (U.S.A.); Sofia Exarchou, Park (Greece); Geremy Jasper, Patti Cake$ (U.S.A.); Oorlagh George, Stranger with a Camera (U.S.A. / Northern Ireland): Daniel Kwan and Daniel Scheinert, Swiss Army Man (U.S.A.); Johnny Ma, Ten Thousand Happiness (U.S.A. / China / Canada); Jeremiah Zagar and Daniel Kitrosser, We the Animals (U.S.A.).

The Screenwriter Lab fellows are: Ana Lily Amirpour, The Bad Batch (U.S.A.); Karrie Crouse and Will Joines, Dust (U.S.A.); Fernando Frias, I’m Already Not Here (U.S.A. / Mexico); Hong Khaou, Monsoon (Vietnam / UK); and Vasan Bala,  Side Hero(India).

Creative Advisors include Robert Redford, Michael Arndt, Miguel Arteta, John August, Walter Bernstein, Kathryn Bigelow, Scott Z. Burns, Joan Darling, Deena Goldstone, Keith Gordon, Catherine Hardwicke, Ed Harris, Azazel Jacobs, Brian Kates, Christine Lahti, Kasi Lemmons, Josh Marston, Pamela Martin, Walter Mosley, Howard Rodman, Ira Sachs, Marjane Satrapi, Susan Shilliday, Peter Sollett, Dana Stevens, Wesley Strick, Chris Terrio, Joan Tewkesbury, Athina Tsangari, Tyger Williams, and Erin Cressida Wilson.

The Oscar-nominated Beasts Of The Southern Wild was a 2011 Screenwriters Lab participant. January 2012 Screenwriters Lab alumni Ryan Coogler saw his Fruitvale Station, which debuted at the 2013 Festival, attract awards and acclaim. (via Deadline)

The Workshop:

IIT Madras is presenting Imaging Cinema 2014, a Screenwriting-cum-Filmmaking Workshop from 7-14 June. The focus is on various aspects of screenwriting. Experienced resource persons will conduct Sessions on screenwriting. Special sessions on aspects of direction and screenwriting will be conducted by established names from Mumbai and South Indian cine industries (including directors, screenwriters, and actors). The course outline will soon be available on the website.

Speakers :

  • Jaideep Sahni (screenwriter of Company, Chak de India, Shuddh Desi Romance)
  • Ram (director of National Award winning Thanga Meengal
  • Shridhar Raghavan (screenwriter of Khakee, Bluffmaster, Dum Maaro Dum, forthcoming film starring Ajith with Gautham Menon as director)
  • Vikramaditya Motwane (director, Udaan, Lootera)
  • Rana Daggubati

Registration:

Those interested in participating can fill in the completed application form available here or here.

Workshop Dates : 7-14th June

Last Date of applying is 11 May 2014.

Accommodation on campus is available for outstation candidates only on a first come first serve basis.

Course fee:

· Rs 7000/ for all participants
· Rs 6000/ for former participants (those who attended our previous events) and students, who are still pursuing their degree;
· Rs 8000/ for NRIs & Foreign Nationals.

– At the end of the workshop, participants will be able to produce a screenplay under the guidance of the mentors. They will be awarded with an IIT Madras certificate of participation.

– The workshop will be held on IITM Campus and is organized by Dr Aysha Iqbal Viswamohan, Associate Professor, Dept of Humanities & Social Sciences, IIT Madras.

– To view some of the short films made by participants in 2012, click here or here.

About IITM Film Workshops:

IIT Madras has become a well-known centre for highly popular film workshops. In May 2009 the institute hosted the Chennai International Screenwriting Workshop which was organized under the auspices of Padma Bhushan Dr Kamal Haasan’s Rajkamal Studio. This 5 day Workshop included sessions by Shri K Balachander, Shekhar Kapoor, Rakeysh Omprakash Mehra, Sriram Raghavan, Atul Tiwari, and Anjum Rajabali.

This was followed by a spate of successful events including a 6 day screenwriting cum conclave on filmmaking in 2010 , which had Dibakar Banerjee, K Balachander, RBalki, Santosh Sivan, PC Sreeram, Jaideep Sahni, Shimit Amin, Nagesh Kukunoor, Saurabh Shukla, editor Sreekar Prasad, and Tamil film directors Vishnuvardhan and CS Amudhan.

In 2012, a 10 day filmmaking workshop was organized where faculty members from FTII, Pune and LV Prasad Institute, Chennai conducted sessions on various aspects of filmmaking such as screenwriting, direction, cinematography, editing, sound and set designing. Participants produced a 3- 5 minute feature at the end of the workshop. Speakers included Rohan Sippy, Anurag Kashyap, Sriram & Sridhar Raghavan, Habib Faisel, Ravi K Chandran, Tamil directors Vetrimaaran and Kumarrajan Thiagarajan and writers Subha and Bala.

– Why attend the Workshop?

The uniqueness of these workshops lie in their outreach where candidates from a cross section of society interact with established names from the Indian film industry. Many of our previous attendees have gone on to make a mark for them in film and media industry, and are currently in the process of making and screenwriting for films or assisting filmmakers of repute.

(via press release)

In the last of our posts on Ankhon Dekhi (Fatema Kagalwala’s piece here and Q&A with Rajat Kapoor here), Mihir Pandya (film critic and the author of Shahar aur Cinema: Via Dilli) comes up with some keen observations on the naksha of Babuji’s home, mind-scape, and philosophy.

And continuing with our efforts to share the scripts of most talked-about and best reviewed films, we have Ankhon Dekhi’s script in its pre-shooting original draft. Thanks to Rajat Kapoor for sharing it.

 


vlcsnap-2014-04-21-16h54m50s212अाँखों देखी : विलक्षण साधारणता अौर अनुभवजन्य यथार्थ

राष्ट्रीय पाठ््यचर्या की साल 2005 में प्रोफेसर यशपाल की अध्यक्षता में बनी रूपरेखा के मध्य एक दिलचस्प किस्सा सम्मिलित है, ‘शीत ऋतु की एक सुबह’ शीर्षक से. किस्सा कुछ यूँ है, “शिक्षिका ने बच्चों को प्रात:कालीन दृश्य बनाने के लिए कहा. एक बच्चे ने अपना चित्र पूरा किया और पार्श्व को गाढ़ा कर दिया लगभग सूर्य को छिपाते हुए. “मैंने तुम्हें प्रात:कालीन दृश्य बनाने के लिए कहा था, सूर्य को चमकना चाहिए.” शिक्षिका चिल्ला उठी, उसने यह ध्यान नहीं दिया कि बच्चे की आँखें खिड़की से बाहर देख रही हैं; आज अभी तक अँधेरा था, सूर्य गहरे काले बादलों के पीछे छिपा हुआ था.” किताबी शिक्षा के ऊपर स्वयं बच्चे के अनुभवजन्य सत्य को तरजीह देनेवाले इस किस्से की याद मुझे फिल्म ‘अाँखों देखी’ देखते हुए बेतरह अाती रही.

रजत कपूर द्वारा निर्देशित फिल्म ‘अाँखों देखी’ के मध्य एक सहज ध्यानाकर्षित करनेवाले प्रसंग में कथा के केन्द्रीय किरदार बाबूजी (संजय मिश्रा) अपने स्कूल में पढ़ने वाले भतीजे के उस गणित के मास्टर से सीधे भिड़ जाते हैं जिसने भतीजे द्वारा उत्तरपुस्तिका में अक्षरश: वही उत्तर न लिखा होने के चलते, जो किताब में लिखा है, उसे परीक्षा में फेल कर दिया है. इस दृश्य की खूबसूरती जितनी इसके तर्क में है, उतनी ही इसके किरदारों की ख़ब्त अौर उससे उपजते उनके विरोधाभासी व्यक्तित्वों में है. यहाँ पुरानी दिल्ली के निम्नवर्गीय परिवार का मुखिया एक मिडिल स्कूल के गणित के मास्टर को यह समझाने में लगा हुअा है कि सिर्फ़ नज़रिये का फर्क किसी सच को झूठ में नहीं बदल देता, अौर कि सच्चाई को देखने-समझने अौर महसूस करने के सबके अपने निजी तरीके-रास्ते हो सकते हैं. दोनों सामान्य से गणित के सिद्धान्त पर दूसरे अादमी को खिजा देने की हद तक पिले हुए हैं. बाबूजी का तर्क है कि जब दो समांतर रेखाएं एक-दूसरे से मिल ही नहीं सकतीं, तो यह क्यों कहा जाये कि वे किसी अनदेखे-अदृश्य ‘अनन्त’ पर जाकर वे मिल जायेंगी?

बाबूजी का भतीजे की गणित की किताब में मौजूद निर्जीव समांतर रेखाअों को नई मौलिक नज़र से देखने का यह अाग्रह जीवंत लोगों को देखने के उनके नज़रिये में भी पैठ बना रहा है. अपने ही दफ्तर के चायवाले अौर साथ काम कर रहे बाबू में उन्हें वह सुन्दरता नज़र अाने लगती है, जिसे चिह्नित करने की फ़ुरसत अौर नज़र, शायद दोनों ही उनके पास पहले नहीं थी. अौर सिर्फ़ अपने ‘भोगे हुए यथार्थ’ पर दुनिया को पहचानने के इस नए प्रण के पीछे कोई अाख्यानिक किस्म का किस्सा भी नहीं है. यूँ ही एक भले दिन घर में घटी सामान्य सी घटना से बाबूजी को यह भिन्न क़िस्म का नज़रिया हासिल होता है अौर फिर घर में एक नितान्त रोज़ाना सी सुबह बाबूजी दफ़्तर जाने से पहले नहाते हुए यह प्रण करते हैं कि “मेरा सच मेरे अनुभव का सच होगा. अाज से मैं हर उस बात को मानने से इनकार कर दूंगा जिसे मैंने खुद देखा या सुना न हो. हर बात में सवाल करूँगा. हर चीज़ को दोबारा देखूँगा, सुनूँगा, जानूँगा, अपनी नज़र के तराजू से तौलूँगा. अौर कोई भी ऐसी बात, जिसको मैंने जिया ना हो उसको अपने मुँह से नहीं निकालूँगा. जो कुछ भी गलत मुझे सिखाया गया है, या गलत तरीके से सिखाया गया है वो सब भुला दूँगा. अब सब कुछ नया होगा. नए सिरे से होगा. सच्चा होगा, अच्छा होगा, सब कुछ नया होगा. जो देखूँगा, उस पर ही विश्वास करूँगा.”

यहाँ यह भी साथ ही रेखांकित किया जाना चाहिए कि बाबूजी को अचानक हासिल हुई दुनिया को देखने की यह अनुभवजन्य यथार्थ पर अाधारित दृष्टि उन्हें परिवार के अन्य किरदारों से भिन्न तो बनाती है, लेकिन वे फिल्म के ‘अादर्श नायक’ नहीं हैं. फिल्म इस बात को लेकर सदा चेतस है कि बाबूजी अपनी नई दृष्टि से लैस होकर भी परिवार के मुखिया की उस भूमिका को नहीं छोड़ते जहाँ घर के अन्य सदस्य उनकी नज़र में स्वयं कर्ता नहीं, उनकी क्रियाअों पर प्रतिक्रिया करनेवालों की द्वितीयक भूमिका में हैं. छोटे भाई के घर छोड़कर चले जाने के प्रसंग में भी उनका अनुभवजन्य यथार्थ उन्हें अपने भाई के निजी यथार्थ तक नहीं पहुँचने देता. अौर ख़ासकर यह उनके अपनी पत्नी (सीमा पाह्वा) से संबंधों में प्रगट होता है. बाबूजी अपनी नई दृष्टि से लैस होकर भी घर के भीतर उस नई दृष्टि का इस्तेमाल कर पाने में असमर्थ हैं अौर अपनी पत्नी को कहते हैं, “कुछ भी नया सोचो अौर तुम अौरतें… चुप रहो.” लेकिन फिर अपनी बेटी से संबंध में यह नई दृष्टि बाबूजी को नई पीढ़ी के अनुभव तक पहुँचने में मदद भी करती है. वे देख पाते हैं बिना किसी पूर्वाग्रह के, जो उनकी बेटी अपने भविष्य के लिए निर्धारित कर रही है.

बाबूजी अजीब किस्म की लगती ख़ब्त तो पालते हैं, लेकिन वे इसके ज़रिये कोई क्रान्ति करने निकले मसीहाई अवतार नहीं हैं. दरअसल इसके ज़रिये वे अपनी साधारण सी लगती ज़िन्दगी को ही कुछ अौर बेहतर तरीके से जानने, समझने की कोशिश कर रहे हैं. यहाँ यह फिल्म शशांत शाह की ‘दसविदानिया’ की याद दिलाती है, जिसमें मध्यवर्गीय ज़िन्दगी की साधारणता अौर उस साधारणता में छिपी विलक्षणता की कथा कही गई थी. यहाँ दरियागंज में पुश्तैनी मकान में रहनेवाले संयुक्त परिवार की ज़िन्दगी का टुकड़ा हमारे सामने है, जिसके चिह्न फिल्म के प्रामाणिक सेट डिज़ाइन, संगीत अौर धारधार छायांकन में उभरकर सामने अाते हैं. अौर उन संदर्भों के ज़रिये जिनसे फिल्म पुरानी दिल्ली की निम्न मध्यमवर्गीय ज़िन्दगी अौर उसमें होते पीढ़ीगत बदलाव को रचती है. घरों का बदलना अौर उनमें मुखियाअों की सत्ताअों का बदलना यहाँ स्टील के गिलास से चीनी-मिट्टी के कपों में होती गरम चाय की यात्रा में अभिव्यक्त होता है. यहाँ बन्द घरों अौर अापस में जुड़ी हुई छतों वाले घरों में इन्हीं शामिल छतों पर मनाए जाते सार्वजनिक जन्मदिन हैं तो मोहल्ले के नाई की दुकान अाज भी पुरुष ज़िन्दगी का सबसे महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्थान है. लेकिन फ़िल्म का सबसे चमत्कारिक पदबंध उस घर की संरचना में छिपा है, जिसमें यह संयुक्त परिवार इतने सालों से रहता अाया है.

मेरे लिए ‘अाँखों देखी’ की बहुत सारी प्रामाणिकता उस घर के नक्शे में छिपी है, जिसमें बाबूजी अौर उनका परिवार इकट्ठे रहता है. बीच में बड़े से चौक के चारों अोर बने रेलगाड़ी के अागे-पीछे लगे डिब्बों से छोटे-छोटे कमरों से घिरी इस बहुमंज़िला इमारत को मैं देखते ही पहचान जाता हूँ. चूने की बनी दो हाथ चौड़ी मोटी दीवारों अौर खड़ी सीढ़ियों से बनी यह इमारतें उत्तर भारतीय शहरों की भवन निर्माण कला का शायद एक समय में सबसे प्रामाणिक नक्शा रही हैं. इनका बड़ा पोलनुमा दरवाज़ा किसी घनी इंसानी बस्ती की संकरी सी गली में खुलता है अौर कमरों के भीतर कमरे निकलते चले जाते हैं. अाप इस इमारत के नक्शे का मिलान अागरा शहर में रहनेवाले मिर्ज़ा परिवार की उस पुश्तैनी हवेली से कर सकते हैं, जिसे हमने सथ्यू साहिब की ‘गरम हवा’ में देखा था. अौर साथ ही इस तुलना द्वारा यहाँ समय के साथ उपयोग में बदलाव के चलते इन पुश्तैनी मकानों की बदलती संरचना पर भी गौर किया जाना चाहिए. समय के साथ जैसे-जैसे शहरी जीवन की सामुदायिकता सीमित हुई, घरों की संरचना में चौक का केन्द्रीय महत्व भी सीमित होता गया. भागती ज़िन्दगी के निवासी इन नौकरीपेशा लोगों की ज़िन्दगियों में समय को लेकर वो सहूलियत नहीं थी कि वे चौक में मजमा लगाकर घंटों चौपाल किया करें. नतीजा, चौक की जगह के अन्य उपयोग ढूँढ़े जाने लगे.

लेकिन इन इमारतों का नक्शा कुछ इस शक्ल का था कि चौक पर सीधे-सीधे छत डाल देना भी संभव नहीं था. यह चौक दरअसल बाक़ी मकान के लिए उस कृत्रिम फेंफड़े की तरह था, जिससे होकर ताज़ा हवा अौर रौशनी बाक़ी सारे निर्मित मकान में अाया करती थी. अौर मकान की संरचना में यह इन्तज़ाम ज़रूरी भी था, अाखिर अापस में एक-दूसरे से छतों से जुड़े मकानों वाले इन रिहाइशी इलाकों में वैसे भी अौर घर में रौशनी अाती भी कहाँ से. घर के नक्शे में हवा अौर रौशनी का इन्तज़ाम घर के बीच से ही करना ज़रूरी होता था. अौर ऐसे में अगर इस चौक के ऊपर पक्की छत पड़ जाती तो बाक़ी सारे मकान की हवा-रौशनी बन्द हो जाती. यहाँ फिर वो जुगत काम में अाती है जिसे इन पुश्तैनी मकानों में रहनेवाली नई पीढ़ियों ने इन घरों को हमेशा के लिए छोड़ने से पहले के कुछ सालों में बहुतायत से अपनाया अौर जिसका गवाह मेरा बचपन भी रहा है.

‘अाँखों देखी’ उस परिवार के बारे में है जिसके सदस्यों के मन में नए समय के साथ दौड़ लगाने की तमन्ना तो है, लेकिन उसके पाँव में सीमित अाय की बेड़ी पड़ी है. वह इस पुश्तैनी मकान की संरचना को बदलना चाहता है, उससे बाहर निकलना चाहता है. लेकिन उसके अार्थिक संसाधन उसे ऐसा करने की इजाज़त नहीं देते. अौर इस कारण वह इसी घर को नए समय में अनुकूलित करता है. इसीिलए चौक के ऊपर पड़ी उस जाली को मैं तुरन्त पहचान जाता हूँ. लोहे के सींखचों वाली यह जाली चौक के ऊपरी हिस्से को कुछ इस तरह ढकती है कि रौशनी अौर हवा पूरी तरह बन्द भी न हों अौर ऊपरी मंज़िल (जो ऐसे मकानों में सदा ज़्यादा ‘ख़ास’ होती है) को घर के बीच एक नया फर्श भी मिल जाये. फर्श न नही, फर्श का अाभास ही सही. ‘अाँखों देखी’ में परिवार के रिहाइश के मकान के मध्य में पड़ी यह जाली कितना कुछ कहती है. यह बताती है कि इस मकान में रहनेवाले अब इस रिहाइश के अनुकूल नहीं रहे अौर किन्हीं मजबूरियों के चलते अब अपने मकान को खुद की ज़रूरतों के अनुसार अनुकूलित कर रहे हैं. यह भी कि एक न एक दिन वे यहाँ से निकल जायेंगे. इसीलिए शायद छोटे भाई ऋषि (रजत कपूर) के पुश्तैनी घर छोड़कर जाने पर फिल्म का जो दृश्य सबसे ज़्यादा याद रह जाता है वो है उसी जाली को बीच से खोलकर रस्सियों द्वारा उतरती अलमारी का दृश्य.

कुछ साल पहले ‘लाइफ स्टाइल’ का कहलाए जानेवाले एक टीवी चैनल पर परिचर्चा में निर्देशक अौर अभिनेता रजत कपूर अपनी निजी ज़िन्दगी के बारे में बड़ी दिलचस्प बात बता रहे थे. ऐसे समय में जब मोबाइल भारतीय मध्यवर्ग की ज़िन्दगियों का ही नहीं, शहरी निम्नवर्ग की जीवनचर्या का भी अभिन्न हिस्सा हो गया है, वे अपने साथ मोबाइल नहीं रखते. वजह पूछने पर उन्होंने बताया था कि उनके हिसाब से इतना महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं कि ज़रा देर इन्तज़ार न कर सके. बात को कुछ अौर लम्बा खीचूँ तो मतलब यह कि दुनिया में अाप जिस वक्त जहाँ मौजूद हैं, उससे ज़्यादा महत्वपूर्ण कहीं कुछ अौर नहीं घट रहा, यह विश्वास इस निर्णय के पीछे है. गौर से देखिए तो उनके द्वारा निर्देशित फिल्म ‘अाँखों देखी’ के मुख्य किरदार में भी अचानक यही विश्वास पैदा हो जाता है. वह अपने वर्तमान को किसी अन्य अदृश्य यथार्थ के लिए ठुकराने से इनकार कर देता है.

फिल्म में बाबूजी का यह निर्णय उनको अपने निजी यथार्थ में कहाँ पहुँचाता है, यह तो अाप फिल्म देखकर ही जानें. लेकिन फिल्म में बाबूजी की इस ख़ब्त से उपजे दो बहुत दिलचस्प प्रसंग हैं, जिनका उल्लेख मैं यहाँ करना चाहूँगा. पहला प्रसंग उनके फैसले के दिन का ही है, जब बाबूजी अपने भाई के अखबार पढ़ने पर टिप्पणी करते हैं, “खबर नहीं है ये. सब बकवास है. खबर वो होती है जिसे हम अपनी अाँखों से देखते हैं, कानों से सुनते हैं.” अौर दूसरा प्रसंग उनके पड़ोसी के लड़के द्वारा यह टिप्पणी किए जाने पर कि “बाबूजी भी न, कुएँ के मेंढक जैसी बातें करते हैं.” उनका जवाब बहुत मानीखेज़ है, “हाँ, मैं मेंढक हूँ. लेकिन अपने कुएँ से मैं परिचित हूँ. उसको जानने की कोशिश कर रहा हूँ. उससे अपना परिचय बढ़ा रहा हूँ.” अौर इसमें वह प्रसंग भी जोड़ लें जहाँ बाबूजी चावड़ी बाज़ार मेट्रो स्टेशन के बाहर व्यस्त सड़क पर हाथ में तख़्ती लिए खड़े हो जाते हैं. तख़्ती पर लिखा है, “सब कुछ यहीं है, अाँखें खोल कर देखो.” मेरी दिलचस्पी इन दोनों संदर्भों को जोड़कर देखने की है. क्या हम सूचना विस्फोट के इस महासमय में अपने निजी अनुभवजन्य यथार्थ से अपनी पकड़ खो रहे हैं? मैं यह सवाल इसलिए पूछ रहा हूँ क्योंकि इन अाधुनिक सूचना के साधनों पर हमारी निर्भरता कहीं न कहीं हमें द्वितीयक स्रोत पर प्राथमिक अनुभव से ज़्यादा भरोसा करनेवाला बनाती है. तर्क भी इसका साथ देता है क्योंकि एक अकेले व्यक्ति के अनुभव के मुकाबले समूह का अनुभवजन्य सत्य या तकनीक अाधारित सामुहिक यथार्थ बड़ा माना ही जाना चाहिए. लेकिन इसके अपने खतरे हैं, जिनका सामना हम वर्तमान समय में कर रहे हैं. अाज द्वितीयक सूचना के स्रोतों को योजना के तहत नियंत्रित किया जा रहा है. शायद मध्यवर्गीय जनसमूह इसे पहचान भी रहा है. लेकिन दिक्कत यहाँ अाती है कि उसने अपने प्राथमिक स्रोत, अपने अनुभवजन्य यथार्थ में भरोसा खो दिया है. ऐसे में हम सब जैसे किसी अंधेरे तहख़ाने में हैं अौर एक-दूसरे से भविष्य का हाल ऐसे ले रहे हैं जैसे कोई अंधा हाथों से टटोलकर कमरे में रखे हाथी की अाकृति को पहचानने की कोशिश कर रहा हो. पिछले एक महीने में दर्जनभर लोग मुझसे बहुत उम्मीद से यह पूछ चुके हैं कि मैं उन्हें बताऊँ कि अाने वाली सोलह मई को अाखिर होने क्या वाला है.

मेरी खुद को भी, अौर उन तमाम लोगों को भी जो किसी छिपे हुए यथार्थ को जान लेने की तलाश में अाजकल बनारस की अोर भाग रहे हैं, एक ही सलाह है − “सब कुछ यहीं है, अाँखें खोल कर देखो”.

– Mihir Pandya

(This piece was first published in Hindi journal ‘Kathadesh’)

And here’s the script of Ankhon Dekhi