Posts Tagged ‘Emraan Hashmi’

Disney-UTV has announced its slate for 2013. While most of us knew about their releases, what’s most interesting for me is the official synopsis of all the films. For example we have been hearing about Chennai Express’ pitch in hush-hush tone for a long time. This one just makes it official.  Do check it out. Wish they had given out writers name with all the films too. And i hope other studios could also do something on similar lines.

chennaiexpress

RACE 2

Realease Date : 25th January

Producers : UTV Motion Pictures and TIPS Industries

Director : Abbas Mustan

Music : Pritam

Cast : Saif Ali Khan, Anil Kapoor, John Abraham, Deepika Padukone, Jacqueline Fernandez, Ameesha Patel

Synopsis : The story of Race 2 is set in the lush locales of exotic Europe, with a backdrop of gambling and Casinos. A fast paced thriller that takes the legacy of “Race1”forward, with high octane action, combined with thrills and twists that have a roller coaster effect, and edge of the seat excitement.

ABCD – ANYBODY CAN DANCE

Release Date : 8th February

Producer : UTV Spotboy

Director : Remo D’Souza

Music Director : Sachin-Jigar

Cast : Prabhudheva, Ganesh Acharya, Dance India Dance winners like Salman Khan, Dharmesh, Prince, Mayuresh and Vrushali and Lauren Gottlieb, the finalist of the popular international television dance talent show So You Think You Can Dance

Synopsis : For Vishnu (Prabhudheva), widely regarded as India’s best dancer, dance is more than a passion – it’s the reason he lives! So when he finds himself thrown out from the swish dance academy he himself set up, by his manipulative business partner, it feels like the oxygen has been sucked out from the air he breathes. Heart-broken, Vishnu decides to give up dance and leave Mumbai forever. However the night before his departure he witnesses a most amazing sight – a group of dancers preparing for the upcoming Ganpati Dance Battle – an annual festival that pits Mumbai’s best dance groups against each other. Watching the raw talent of these amazing dancers helps Vishnu arrive at a decision – he will take this disparate group under his wing, help them overcome their personal rivalries and past demons and turn them into India’s best dance squad!. From India’s biggest film studio, UTV Motion Pictures, and renowned choreographer & director, Remo D’souza comes India’s first dance film in 3D– a spectacular entertainer that proves yet again that if you dare to dream, impossible is nothing!

KAI PO CHE!

Release Date : 22nd February

Producer : UTV Spotboy

Director : Abhishek Kapoor

Music Director : Amit Trivedi

Cast : Sushant Singh Rajput, RajKumar Yadav, Amit Sadh, Amrita Puri

Synopsis : Best friends Ishaan, Omi and Govind – young, ambitious and restless – are trying to make a mark in the India of the early 2000’s. These are exciting times – a new millennium has just dawned, India is a nuclear power and ostensibly shining – a perfect place for the 3 Ahmedabad boys to start a business that could be their ticket to fame and riches. In a country where cricket is religion, they hit upon a brilliant plan – to start a training academy that could produce India’s next sporting superstars! What follows is without doubt the greatest adventure of their lives, as they attempt to navigate the big hurdles in the path of fulfilling their dreams. Based on Chetan Bhagat’s bestselling novel “The Three Mistakes of My Life”, Kai Po Che (meaning a triumphant yell in Gujarati) is an unforgettable ode to friendship and the magical moments one shares with one’s closest pals – celebrating festivals, drunken dancing, watching cricket matches together, strategizing on how to catch the attention of the cute neighborhood girl, being there to watch each other’s back in troubled times and to celebrate one’s successes by screaming “Kai Po Che”!

HIMMATWALA

Release Date : 29th March

Producer : UTV Motion Pictures and Puja Entertainment

Director : Sajid Khan

Music Director : Sajid Wajid

Cast : Ajay Devgan, Tammannah

Synopsis : The biggest remake of the 80s Bollywood cult classic “Himmatwala” is a story of a poor and wronged mothers son who comes to the village to avenge his father.

GHANCHAKKAR

Release Date : 21st June

Producer : UTV Motion Pictures

Director : RajKumar Gupta

Music Director : Amit Trivedi

Cast : Emraan Hashmi and Vidya Balan

Synopsis : When Sanju (Emraan Hashmi), a suave, master safe cracker wants to retire from a career in crime, he decides to team up with two dangerous criminals to commit one last heist. A bank robbery that will ensure that he never has to worry about money again! Everything goes according to plan. Sanju is given the task of hiding the money till things cool down and the booty can be split. Two months later the associates return to collect their share of the loot, but Sanju refuses to even recognize them! What dangerous game is Sanju playing? Ghanchakkar is a crazy, quirky rollercoaster suspense ride that will surprise, shock and entertain the audience at every turn.

SATYAGRAHA

Release Date : 15th August

Producer : UTV Motion Pictures and Prakash Jha Productions

Director: Prakash Jha

Cast : Amitabh Bachchan, Ajay Devgan, Kareena Kapoor, Arjun Rampal, Manoj Bajpayee

Synopsis : The film deals with the movement of the middle-class to re-negotiate democracy. It’s the story of a man who is a firm believer of Gandhian principles, an ambitious entrepreneur who represents the modern India shining philosophy, a social activist who aims to be a politician, a fearless political journalist and a wily politician who uses every means to break the system.

CHENNAI EXPRESS

Producer : UTV Motion Pictures and Red Chillies Entertainment

Release Date : To be announced

Director : Rohit Shetty

Music Director : Vishal Shekhar

Cast : Shah Rukh Khan and Deepika Padukone

Synopsis : The story is about a man’s journey from Mumbai to Rameshwaram and what happens during the journey.

TAMIL

SETTAI

Producer : UTV Motion Pictures

Release date : February, 2012

Director : R. Kannan

Music Director : S. Thaman

Cast : Arya, Anjali, Santhanam, Premji Amaren and Hansika Motwani

Synopsis : Settai is a remake of the 2011 Bollywood comedy, Delhi Belly.

IVAN VERAMADHIRI (He is different)

Producer : UTV Motion Pictures & N. Lingusamy of Thirrupathi Brothers

Release Date : June, 2013

Director : M. Saravanan

Music Director : Sathya

Cast : Vikram Prabhu and others

Synopsis : It is about a common man’s anger on the criminals and demonstrating the commitment of youth to reform the society

SIGARAM THODU (Scale the peak) December

Producer : UTV Motion Pictures

Release Date : December, 2013

Director : Gaurav

Music director: D. Imman

Cast : Vikram Prabhu, Sathyaraj, Yamini Gautam and others

Synopsis : It is about father & son’s relationship. A son’s desire to fulfill the desire of his father.

Image

“What is any good film without the extreme reactions it sparks? What’s any bad film without the guilty pleasures it gives?” said Peddlers director Vasan Bala after watching the debate around Shanghai. So many of us loved it, and a surprisingly big number hated it. Surprisingly because it’s a Dibakar Banerjee film. The man who reinvents himself every time, makes films so technically brilliant and well-detailed that rest of Hindi film industry must feel like Salieri in front of him, whose films are at that rare edge of feel-good and feel-bad and has not yet seen many bad reviews for his 3 earlier films.

While we wait for a long juicy post from someone who hated the film, (here’s a medium-sized one by Bikas Mishra on Dear Cinema), Varun Grover, writes one on why he loved it. Debate is still open though.

***************************

नोट: इस लेख में कदम-कदम पर spoilers हैं. बेहतर यही होगा कि फिल्म देख के पढ़ें. (हाँ, फिल्म देखने लायक है.) आगे आपकी श्रद्धा.

मुझे नहीं पता मैं लेफ्टिस्ट हूँ या राइटिस्ट. मेरे दो बहुत करीबी, दुनिया में सबसे करीबी, दोस्त हैं. एक लेफ्टिस्ट है एक राइटिस्ट. (वैसे दोनों को ही शायद यह categorization ख़ासा पसंद नहीं.) जब मैं लेफ्टिस्ट के साथ होता हूँ तो undercover-rightist होता हूँ. जब राइटिस्ट के साथ होता हूँ तो undercover-leftist. दोनों के हर तर्क को, दुनिया देखने के तरीके को, उनकी political understanding को, अपने अंदर लगे इस cynic-spray से झाड़ता रहता हूँ. दोनों की समाज और राजनीति की समझ बहुत पैनी है, बहुत नयी भी. अपने अपने क्षेत्र में दोनों शायद सबसे revolutionary, सबसे संजीदा विचार लेकर आयेंगे. और बहुत हद तक मेरी अपनी राजनीतिक समझ ने भी इन दोनों दोस्तों से घंटों हुई बातों के बाद भस्म होकर पुनर्जन्म लिया है. मैं अब हर बड़े मुद्दे (अन्ना, inflation, मोदी, कश्मीर, और काम की फिल्मों) पर उनके विचार जानने की कोशिश करता हूँ. और बहुत कन्फ्यूज रहता हूँ. क्योंकि अब मेरे पास हर सच के कम से कम दो version होते हैं. क्योंकि आज के इस दौर में हर सच के कम से कम दो version मौजूद हैं.

इस अजब हालात की बदौलत मैं हर चीज़ को दो नज़रियों से देखता हूँ, देख पाता हूँ. अक्सर ना चाहते हुए भी. यह दिव्य-शक्ति मुझे मेरा political satire शो (जय हिंद) लिखने में बहुत मदद करती है लेकिन मेरी बाकी की ज़िंदगी हराम हो गयी है. अब मैं किसी एक की साइड नहीं ले सकता. (मुझे याद है बचपन में मैं और मेरा छोटा भाई क्रिकेट के फ़ालतू मैचों में भी, जैसे कि जिम्बाब्वे बनाम श्रीलंका, अपनी अपनी साइड चुन लेते थे. इससे मैच का मज़ा कई गुना बढ़ जाता था. और देखने का एक मकसद मिलता था.) और साइड न ले सकना बहुत बड़ा श्राप है.

यह सब इसलिए बता रहा हूँ क्योंकि शांघाई में भी ऐसे ही ढेर सारे सच हैं. यह आज के शापित समय की कहानी है. ढेर सारे Conflicting सच जो पूरी फिल्म में एक दूसरे से बोतल में बंद जिन्नों की तरह आपस में टकराते रहते हैं. आज के हिंदुस्तान की तरह, आप इस फिल्म में भी किसी एक की साइड नहीं ले सकते. उस डॉक्टर अहमदी की नहीं जो अमेरिका में प्रोफेसरी कर रहे हैं और अपने लेफ्टिस्ट विचारों से एक बस्ती के आंदोलन को हवा देने चार्टर्ड फ्लाईट पकड़ के आते हैं. वो जो निडर हैं और सबसे नीचे तबके के हक की बात बोलते हैं लेकिन सच में आज तक एक भी displaced को rehabilitate नहीं कर पाए हैं.

डॉक्टर अहमदी की बीच चौक में हुई हत्या (सफ़दर हाशमी?) जिसे एक्सीडेंट साबित करना कोई मुश्किल काम नहीं, जगाता है उनकी पूर्व-छात्रा और प्रेमिका शालिनी को. लेकिन आप शालिनी की भी साइड नहीं ले सकते क्योंकि वो एक अजीब से idealism में जीती है. वो idealism जो ढेर सी किताबें पढ़ के, दुनिया देखे बिना आता है. वो idealism जो अक्सर छात्रों में होता है, तब तक जब तक नौकरी ढूँढने का वक्त नहीं आ जाता.

शालिनी का idealism उसको अपनी कामवाली बाई की बेटी को पढाने के लिए पैसे देने को तो कहता है लेकिन कभी उसके घर के अंदर नहीं ले जाता. और इसलिए जब शालिनी पहली बार अपनी बाई के घर के अंदर जाती है तो उसकी टक्कर एक दूसरी दुनिया के सच से होती है और शालिनी को उस सच पे हमला करना पड़ता है. उसकी किताबें कोने में धरी रह जाती हैं और वार करने के लिए हाथ में जो आता है वो है खाने की एक थाली. Poetically देखें तो, दुनिया का अंतिम सच.

हम middle-class वालों के लिए सबसे आसान जिसकी साइड लेना है वो है IAS अफसर कृष्णन. उसे अहमदी की मौत की रपट बनाने के लिए one-man enquiry commission का चीफ बनाया गया है. (“हमारे देश में ऐसे कमीशन अक्सर बैठते हैं. फिर लेट जाते हैं. और फिर सो जाते हैं.”, ऐसा मैंने देहरादून में १९८९ में एक कवि सम्मेलन में सुना था.) कृष्णन IIT का है. IITs देश की और इस फिल्म की आखिरी उम्मीद हैं. अगर इन्साफ मिला तो कृष्णन ही उसे लाएगा. लेकिन अंत आते आते कृष्णन का इन्साफ भी बेमानी लगने लगता है. वो दो चोरों में से एक को ही पकड़ सकता है. एक चोर को इस्तेमाल कर के दूसरे को पकड़ सकता है. कौन सा चोर बड़ा है यह ना हम जानते हैं ना वो. और पकड़ भी क्या सकता है, इशारा कर सकता है कि भई ये चोर है इसे पकड़ लो. उसे हिंदुस्तान की कछुआ-छाप अदालतें पकड़ेंगी या नहीं इसपर सट्टा लगाया जा सकता है. (आप किसपर सट्टा लगाएंगे? बोफोर्स मामले में किसी पे लगाया था कभी?) कृष्णन का इन्साफ एक मरीचिका है. जैसे बाकी का shining India और उसके IIT-IIM हैं. (एक लाइन जो फिल्म के ट्रेलर में थी लेकिन फाइनल प्रिंट में नहीं – कृष्णन की कही हुई- ‘सर जस्टिस का सपना मैंने छोड़ दिया है .’)

शांघाई के बाकी किरदार भी इतने ही flawed हैं. इतने ही उलझे हुए. (शायद इसीलिए Comedy Circus को अपनी आत्मा बेचे हुए हमारे देश को यह फिल्म समझ ही नहीं आ रही.) लेकिन इन सब के बावजूद शांघाई एक serious फिल्म नहीं है. Depressing है, डरावनी भी…लेकिन उतनी ही जितना कोई भी well-written political satire होता है. दो हिस्सा ‘जाने भी दो यारों’ में एक हिस्सा ‘दो बीघा ज़मीन’ घोली हुई. ’दो बीघा ज़मीन’ से थोड़ी ज़्यादा भयावह… ‘जाने भी दो यारों’ से काफी ज़्यादा tongue in cheek. (‘जाने भी दो यारों’ से कुछ और धागे भी मिलते हैं. Politician-builder lobby, एक हत्या, अधमने पत्रकार, ह्त्या की जाँच, और एक अंतिम दृश्य जो कह दे ‘यहाँ कुछ नहीं हो सकता.’)

दिबाकर की नज़र

Image

दिबाकर बनर्जी को बहुत से लोग हमारे समय का सबसे intellectual फिल्म-मेकर मानते हैं. वैसे मेरे हिसाब से intellectual आज के समय की सबसे भद्र गाली है लेकिन जो मानते हैं वो शायद इसलिए मानते हैं कि उनके अलावा कोई और है ही नहीं जो कहानी नहीं, concepts पर फिल्म बना रहा हो. दिबाकर की दूसरी फिल्म ‘ओए लक्की लक्की ओए’ देखने वाले बहुतों को लगा कि कहानी नहीं थी. या कहानी पूरी नहीं हुई. हाल ही में प्रकाशित ‘शहर और सिनेमा वाया दिल्ली’ के लेखक मिहिर पंड्या के शब्दों में “‘ओए लक्की..’ शहरी नागरिक समाज की आलोचना है. इस समाज की आधुनिकता की परिभाषा कुछ इस तरह गढ़ी गयी है कि उसमें हाशिए का व्यक्ति चाह कर भी शामिल नहीं हो पाता.”

उनकी पिछली फिल्म ‘लव, सेक्स, और धोखा’ voyeursim को तीन दिशाओं से छुप के देखती एक चुपचाप नज़र थी. यानी कि voyeurism पर एक voyeuristic नज़र.

अब आप बताइये, आज कल के किस और निर्देशक की फिल्मों को इस तरह के सटीक concepts पे बिछाया जा सकता है? और क्योंकि वो concepts पर फिल्में बनाते हैं इसलिए उनकी हर फिल्म एक नयी दुनिया में घुसती है, एक नया genre पकडती है.

लेकिन उनकी जो बात सबसे unique है वो है उनकी detailing. शर्तिया उनके level की detailing पूरे हिंदुस्तान के सिनेमा में कोई नहीं कर रहा. उनके satire की चाबी भी वहीँ है. बिना दो-पैसा farcical हुए भी वो सर्वोच्च दर्ज़े का satire लाते हैं. Observation इतना तगड़ा होता है, और इतनी realistic detailing के साथ आता है कि वही satire बन जाता है. और शांघाई में ऐसे observations किलो के भाव हैं. कुछ मासूम हैं और कुछ morbid, लेकिन सब के सब effortless.

स्टेज शो में चल रहे Item song का एक नेता जी की entry पर रुक जाना, और item girl का झुक कर नेता को नमस्ते करना, कृष्णन का अपने laptop पर भजन चलाकर पूजा करना, चीफ मिनिस्टर के कमरे के बाहर बिना जूतों के जुराबें पहन कर बैठे इंतज़ार करता IAS अफसर और कमरे में जाते हुए रास्ते में एक कोने में पड़े गिफ्ट्स के डब्बों का अम्बार, सुबह gym और शाम को हलवे-पनीर की दावत  की रोजाना साइकल में उलझा सत्ता का एक प्रतिनिधि, तराजू पर मुफ्त में बांटे जाने वाले laptops से तुलता एक ज़मीनी नेता, हस्पताल में अपने मरते हुए प्रोफेसर को देख बिफरी सी शालिनी के चिल्लाने पर नर्स का कहना ‘आपको fighting करना है तो बाहर जाकर कीजिये’, अंग्रेजी स्पीकिंग कोर्स की क्लास में दीवार पर मूँछ वाले सुपरमैन की पेन्टिंग, एक पूरी बस्ती ढहा देने के पक्ष में lobbying कर रहे दल का नारा ‘जय प्रगति’ होना, अपने टेम्पो से एक आदमी को उड़ा देने के बाद भी टेम्पो वाले को दुनिया की सबसे बड़ी फ़िक्र ये होना कि उसका टेम्पो पुलिस से वापस मिलेगा या नहीं – यह सब हमारे सुगन्धित कीचड़ भरे देश के छींटे ही हैं.

दिबाकर के पास वो cynical नज़र है जो हमें अपने सारे flaws के साथ अधनंगा पकड़ लेती है और थोड़ा सा मुस्कुरा कर परदे पर भी डाल देती है. शांघाई के एक-एक टूटे फ्रेम से हमारे देश का गुड-मिश्रित-गोबर रिस रहा है. आप इसपर हँस सकते हैं, रो सकते हैं, या जैसा ज्यादातर ने किया – इसे छोड़ के आगे बढ़ सकते हैं यह कहते हुए कि ‘बड़ी complicated पिच्चर है यार.’

फिल्म की आत्मा

जग्गू और भग्गू इस फिल्म की आत्मा होने के लिए थोड़े अजीब किरदार हैं. इन दोनों ने सिर्फ पैसों के लिए उस आदमी को अपने टेम्पो के नीचे कुचल दिया जो असल में उन्हीं की लड़ाई लड़ रहा था. और उसके मरने के बाद भी कम से कम भग्गू को तो कोई अफ़सोस नहीं है. उसे बस यही चिंता है कि जग्गू मामा जेल से कब छूटेगा और उन्हें उनका टेम्पो वापस कब मिलेगा.

Image

ऐसे morally खोखले प्राणी इस फिल्म की आत्मा हैं. और यही इस फिल्म का मास्टर-स्ट्रोक भी है. फिल्म इन्हीं से शुरू होती है, और इनपर ही खत्म होती है. पहले सीन में भग्गू अपने मामा जग्गू से पूछ रहा है कि मटन को अंग्रेजी में क्या कहते हैं. उसने सुना है कि मिलिट्री में लड़ाई पे जाने से पहले मटन खिलाया जाता है. उसके इस सवाल का अर्थ थोड़ी देर में समझ आता है. प्रोफेसर अहमदी को मारने के काम को भग्गू युद्ध से कम नहीं मान रहा, और इसलिए वो मटन की सोच रहा है. वो एक कोचिंग में अंग्रेजी भी सीख रहा है, ताकि इस गुरबत की ज़िंदगी से बाहर निकले. कहाँ, उसे नहीं पता, पर बाहर कुछ तो होगा शायद ये धुंधला ख्याल उसके दिमाग में है. लेकिन अंग्रेजी सीख रहा है इसलिए भी मटन की अंग्रेजी सोच रहा है. (संवादों में इस detailing का जादू दिबाकर के अलावा किसकी फिल्म में दिखता है? और इसके लिए फिल्म की सह-लेखिका उर्मी जुवेकर को भी सलाम.)

भग्गू फिल्म में (और देश में) दिखने वाले हर उग्र aimless युवा का representative है. हर उस भीड़ का collective face जो भंडारकर ओरिएंटल रिसर्च इंस्टीट्यूट में घुसकर तोड़फोड़ करती है क्योंकि किसी ने उन्हें कह दिया है कि शिवाजी के खिलाफ लिखी गयी किताब की रिसर्च यहीं हुई थी. भग्गू को नहीं जानना है शिवाजी कौन थे, या किताब में उनपर क्या बुरा लिखा गया था. उसे बस तेज़ी से दौड़ती इस भीड़ में अपना हिस्सा चाहिए. उसे दुनिया के शोर में अपनी आवाज़ चाहिए. उसे थोड़े पैसे चाहिए और कुछ पलों के लिए यह एहसास चाहिए कि वो कुछ ऐतेहासिक कर रहा है. किसी म्यूजियम या पेंटिंग exhibition पर हमला करना, किसी किताबों की दुकान जला देना, किसी पर ट्रक चढ़ा देना…सब ऐतेहासिक है, और भग्गू ये सब करेगा. क्योंकि भग्गू वैसे भी क्या ही कर रहा है?

जग्गू मामा थोड़ा बूढा है. वो शायद जवानी में भग्गू जैसा ही था. लेकिन अब वो दौर गुज़र गया. अब वो बोलता नहीं. लेकिन वो मना भी नहीं करता. फिल्म की सबसे यादगार लाइन में, शालिनी के हाथों बेहिसाब पिटने के बाद और ये पूछे जाने के बाद कि ‘तुम्हें शर्म नहीं आई सबके सामने एक आदमी को मारते हुए?’, जग्गू कहता है – ‘आपने भी तो मारा मुझे. मेरी बेटी के सामने. मैने आपका क्या कर लिया?’ जग्गू सर्वहारा है. जग्गू ‘पीपली लाइव’ के बाद एक बार फिर प्रेमचंद के ‘गोदान’ का होरी महतो है. जग्गू को हर सुबह अपना ही घर तोडना है और रात में उसे बनाना है. क्योंकि उसी में बाकी की दुनिया का फायदा है.

बाकी की फिल्म…

बाकी की फिल्म में ढेर सारे और किरदार हैं…हमारे आस-पास से निकले हुए. जात के बाहर शादी ना कर पाया, जोधपुर से भागा एक लड़का है, जो अभी चीज़ें समझ ही रहा है. प्रोफेसर अहमदी की बीवी है जो फिल्म के अंत में एक hording पर नज़र आती है और कालचक्र का एक चक्र पूरा करती है, IAS अफसर कृष्णन का बॉस है जो बिलकुल वैसा है जैसा हम आँख बंद कर के सोच सकते हैं. और हमेशा की तरह दिबाकर बनर्जी के कास्टिंग डायरेक्टर अतुल मोंगिया का चुनाव हर रोल के लिए गज़ब-फिट है.

इतनी अद्भुत कास्टिंग है कि फिल्म का realism का वादा आधा तो यूँ ही पूरा हो जाता है. इमरान हाशमी तक से वो काम निकाला गया है कि आने वाली पुश्तें हैरान फिरेंगी देख कर. फारुख शेख (जिनका ‘चश्मे बद्दूर’ का एक फोटो मेरे डेस्कटॉप पर बहुत दिनों से लगा हुआ है), कलकी, तिलोत्तमा शोम, पितोबाश, और अभय देओल ने अपने-अपने किरदार को अमृत पिलाया है अमृत. लेकिन सबसे कमाल रहे अनंत जोग (जग्गू मामा) और सुप्रिया पाठक कपूर (मुख्य मंत्री). अनंत जोग, जिनके बारे में वासन बाला ने इंटरवल में कहा कि ‘ये तो पुलिस कमिश्नर भी बनता है तो छिछोरी हरकतें करता है’ इस फिल्म में किसी दूसरे ही प्लेन पर थे. इतनी ठहरी हुई, खोई आँखें ही चाहिए थीं फिल्म को मुकम्मल करने को. और सुप्रिया पाठक, जो पूरी फिल्म में hoardings और banners से दिखती रहीं अंत में सिर्फ एक ३-४ मिनट के सीन के लिए दिखीं लेकिन उसमें उन्होंने सब नाप लिया. बेरुखी, formality, shrewdness, controlled relief…पता नहीं कितने सारे expressions थे उस छोटे से सीन में.

जाते जाते…

फिल्म में कुछ कमजोरियां हैं. खास कर के अंत के १०-१५ मिनट जल्दी में समेटे हुए लगते हैं, और कहीं थोड़े से compromised भी. लेकिन अगर इसे satire की नज़र से देखा जाए तो वो भी बहुत अखरते नहीं. बाकी बहुतों को पसंद नहीं आ रही…और जिन्हें नहीं आ रही, उनसे कोई शिकायत नहीं. क्योंकि जैसा कि मेरे दो मित्रों ने मुझे सिखाया है – सच के कम से कम दो version तो होते ही हैं.

*******************

The much anticipated trailer of Dibakar Banerjee’s Shanghai is finally out. Have a look.

So far Dibakar’s record has been cent percent – 3/3. Will he deliver once again? Going by the trailer, it surely seems so. But then, political films are a different beast.

SEZ, activism, murder, accident, conspiracy theories and the mess and madness kicks in. And then a ball drops in – yeh khelne ki jagah hai kya? Aha, that Dibakar touch. So refreshing to see Emraan Hashmi getting out of his comfort factor and doing it without anything remotely sufiyana. Wouldn’t be surprised if he overshadows Abhay Deol. And Kalki looks perfectly vulnerable.

Strangely, the text doesn’t mention Khosla Ka Ghosla. It says “from the director of Oye Lucky Lucky Oye and Love Sex Aur Dhoka”. Why would you not mention KKG?

Kasam khoon ki khayee hai….yeh shahar nahi Shanghai hai – Ok, am sold. Now bring it on.

Writing credits include Urmi Juvekar and Dibakar Banerjee and unlike others it mentions the book Z by Vassilis Vassilikos.

At the end of it the only thing that doesn’t sound convincing is the title – Shanghai.

The first poster of the much anticipated film of Dibakar Banerjee, Shanghai, is out.

The film stars Emraan Hashmi, Abhay Deol, Prosenjit Chatterjee and Kalki Koechlin.

After OUATIM, producer Ekta Kapoor, director Milan Luthria and writer Rajat Arorra have  again come together for their next film The Dirty Pciture. The film stars Naseeruddin Shah, Vidya Balan, Emraan Hashmi and Tusshar. DoP is Bobby Singh and it has music by Vishal-Shekhar.

Looks like Vidya Balan is going full throttle with this one and without any kind of inhibitions. Plus Bappi Lahiri’s vocals and zimbly zouth kitsch all over, the trailer is exactly what one would expect from this film. It’s one film which must have been “hit” even at the idea level, all they needed was a good actress. Bring it on!

Also one good thing they have done is that they didn’t compromise on the trailer and kept Tusshar only for few seconds. Sadly we have to tolerate him in the film.

Madhur Bhandarkar, known for, what else, but Bhandarkarism ( Or if you have a better word, do let us know) in cinema, is ready with his new film titled Dil Toh Baccha Hai Ji. The film stars Ajay Devgn, Emraan Hashmi, Omi Vaidhya, Shruti Hassan, Shazahn Padamsee and Shraddha Das.  And if you are interested, here is the first trailer of the film.

UPDATE – We had put this post last year. But the makers got to know about it and thought it was too early and might harm the prospect of the film. So we removed the post. Now that the film’s trailer is out, we are posting it again. Haven’t change anything else.

This one is strictly for the fanboys. Dibakar Banerjee, easily one of the best directors among the current lot, is busy working on his fourth film titled Shanghai. And a good soul did a good deed for the day – mailed us the synopsis of the film. And it seems much more than just synopsis. The film is based on Vassilis Vassilikos’ novel Z. Costa Gavras’ film Z was also based on the same novel. Click here to read the synopsis of Z.

And yes, here is the SPOILER ALERT! Read on…

A politically volatile state in India gears up for two much awaited events : the assembly elections and the completion of a multi-billion dollar special economic zone (SEZ) deal, both timed together to help the ruling party clinch the elections.

This is a story of modern India. A country ruled by contradictions. A country whose elite leadership is preoccupied with the growth rate and elected politicians thrive on the resentment created by economic development. This story is playing out across every town in India that wants to find itself on the map of “shining India” at any cost.

A prominent and respected social activist, Doctor Ahmedi, known as nationally and internationally for his successful struggle against the governments and multinationals to protect the rights of the poor, accuses the state government of acquiring huge real estate for the project without adequate compensation to the people living on it.

On the day of Doctor Ahmedi’s arrival, Shalini Pearson, a British social worker working in the working-class area where the SEZ is going to be set-up, learns of a threat to Doctor Ahmedi’s life. She warns the party, but her warnings are not taken seriously. They tell her, “You cannot afford to be afraid if you decide to stand up against injustice.”

That evening, amid a turbulent meeting in Bharat Nagar, Doctor Ahemdi with his supporters exhorts the locals to fight for their rights. A handful of police officials keep a mute watch, ostensibly to protect the doctor. A lone photojournalist, Jogi Parmar, is present.

As the doctor and his supporters are leaving the venue, a scuffle break out between the supporters and opponents of the doctor. In the melee, a truck crashes into the crowd, heads for the doctor, mows him down inches away from Shalini and escapes. One of the doctor’s supporters chases the truck and gets on to it. A distraught Shalini rushes to the doctor to the hospital, where he slips into a deep coma.

The state machinery moves into high gear to defuse the situation. The truck driver is caught and a case of drunk driving is registered. The doctor’s wife accuses the state of a conspiracy to kill her husband. The allegation is quickly countered by setting up of an enquiry commission by a former judge, Padmanabhiah.

Soon skeletons start tumbling out as the judge starts his meticulous investigation into the accident. Truth and falsehood get mixed up as testimonies get recorded. Questions are left unanswered or stalled. What seems to have been an open-and-shut case soon becomes a conspiracy and a cold-blooded plot to get rid of Doctor Ahmedi.

Shalini, working relentlessly to strengthen the case, finds the first witness, a local cable operator and photojournalist Jogi’s boss, who has accidently recorded a  telephone conversation between the local politician, Bhausaheb, and an unknown person plotting to get rid of Ahmedi. However the witness is found dead and the tape is lost before it can be presented to the judge.

Shanghai is a political story about the workings of Indian democracy told through three unlikely protagonists with ground level differing aims and often conflicting with each other as they start unraveling the story behind Doctor Ahmedi’s death.

Judge Padmanabhiah for the first time emerges out of the legalistic cocoon to understand the real, messy truth at the ground level. Jogi starts fighting for truth – something his opportunistic, hustling mind could have never thought possible before.

The danger increases, the hunter becomes the hunted. Truth pits them against the might of a  ruthless political machinery. Hanging in balance is the control of the state, power equations in the country’s political capital, Delhi, and the very meaning of justice in contemporary India.

So, what’s your bet ?